जानकारी के अनुसार अमरेली में अमबार्डी गांव के एक चरवाहा अपनी भेड़ें चराने जा रहा था। तभी वहां कहीं से तीन खूंखार शेर आ गए। शेरों ने भेड़ों पर हमला करने की कोशिश की। चरवाहे ने जब अपनी भेड़ों को शेरों से बचाना चाहा तो उन तीनों शेरों ने उस चरवाहे पर ही हमला कर दिया।

किसी एक इंसान पर तीन शेरों का हमला इससे कोई भी कल्पना कर सकता है कि उस इंसान की क्या हालत होगी। लेकिन इसे चरवाहे की किस्मत कह सकते हैं कि उसके पास उसका वफादार कुत्ता भी था। कुत्ते ने जब ये नजारा देखा तो उससे रहा नहीं गया और उसने अपनी सूझ-बूझ दिखाई।

कुत्ते को कुछ सूझा नहीं तो उसने जोर-जोर से भौंकना शुरू कर दिया। कुत्ते की भौंकने की आवाज सुनकर आस-पास के दर्जनों लोग वहां घटनास्थल पर पहुंच गए। बस फिर क्या था। कुत्ते की तरकीब काम आई और बड़ी संख्या में वहां लोगों को वहां मौजूद देख शेर वहां से भाग निकले।

हालांकि इस पूरे घटनाक्रम में चरवाहे के शरीर पर शेरों के पंजों की हल्की खरोंचें आई हैं जिससे वह घायल हो गया है। लेकिन बड़ी बात ये है कि तीन शेरों का निवाला बनने से वह बच गया और ये सब कुत्ते की बदौलत हुआ। इतना ही नहीं कुत्ते ने ना सिर्फ अपनी जान बचाई, अपने मालिक की जान बचाई बल्कि उसके कई भेड़ों की भी जान बचाई।