झलकारी बाई कॉलेज परिसर केपास कचरे के ढेर में मिली नन्ही परी

ग्वालियर। नन्ही परी ने सोचा भी नहीं होगा कि यह दुनिया इतनी बेरहम होगी। इस दुनिया में आने के बाद उसकी आंख ढंग से खुली भी नहीं थी कि उसे सड़क किनारे कचरे के ढेर में फेंक दिया। फेंकने वाले ने यह भी नहीं सोचा कि जब जानवर उसे नोचेंगे तो उस पर क्या गुजरेगी। लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। नन्ही परी ने रोने की आवाज से लोगों को अपनी ओर खींच लिया। कचरे में पड़े जिस टाट के बोरे को लोग कचरा समझ रहे थे जब उसमें से रोने की आवाज आई तो राहगीर ठहर गए। टाट खोला तो एक सुंदर परी आंखें टमटमाते हुए अपनी मां को तलाश रही थी।

घटना रविवार सुबह 10 बजे झलकारी बाई कॉलेज परिसर के बाहर हजीरा की है। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और बच्ची को मुरार एसएनसीयू में भर्ती कराया। अब बच्ची पूरी तरह स्वस्थ है। हजीरा थाना क्षेत्र स्थित मल्लगढ़ा के पास झलकारी बाई महाविद्यालय परिसर से लगे कचरे के ढेर में एक टाट पड़ा हुआ था। जिसे लोग देख तो रहे थे पर कचरा समझकर किसी ने नहीं छुआ। सुबह 10 बजे के लगभग कचरे के आसपास से गुजरने वाले लोगों ने बच्चे के रोने की आवाज सुनी। यह सुनकर लोग पहले ठहरे फिर आसपास देखा। यहां वहां काफी देखने के बाद जब लोगों ने ध्यान से सुना तो यह आवाज टाट से आ रही थी।

लोगों ने टाट को उठाया तो उसमें नवजात बच्ची लिपटी हुई थी। बच्ची इस तरह लिपटी थी कि उसकी सांस नहीं रुके। लोगों ने नवजात बच्ची को उठाकर एक चबूतरे पर रखा। साथ ही मामले की सूचना हजीरा थाना पुलिस को दी। सब इंस्पेक्टर पीएम वर्मा मौके पर पहुंचे। उन्होंने तत्काल बच्ची को निगरानी में लेकर मुरार जिला अस्पताल के जच्चा खाना स्थित एसएनसीयू में भर्ती कराया। पुलिस ने मामले की सूचना चाइल्ड लाइन को दे दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *