पेहसारी से लिफ्टिंग बंद, अब तिघरा से बुझेगी शहर की प्यास

ग्वालियर। शहर की प्यास बुझाने के लिए ककैटो और पेहसारी बांध का सीना चीरकर पूरा पानी निकाल लिया गया। पेहसारी बांध से तिघरा बांध के लिए की जा रही पानी की लिफ्टिंग रविवार को बंद कर दी गई।

दोनों बांधों से 2300 एमसीएफटी पानी लिफ्ट करना था। लेकिन जल संसाधन विभाग ने दोनों बांधों से 2031 एमसीएफटी पानी लिफ्ट किया। शेष पानी जलीय जीवों व पशुओं के लिए छोड़ा गया है। लिफ्ट किए गए 2031 एमसीएफटी में से तिघरा बांध में 1248 एमसीएफटी पानी पहुंच गया। तिघरा में रविवार को जल स्तर 719.70 फीट हो गया था। इस पानी से एक दिन छोड़कर अब 15 अगस्त तक शहर की प्यास बुझाई जा सकेगी।

13 नवंबर से शुरू हुई थी लिफ्टिंग –

अल्प वर्षा के कारण इस बार शहर भीषण पेयजल की चपेट में था। 1 मार्च से शहर में एक दिन छोड़कर पानी की सप्लाई करना पड़ी। शहरवासियों को पेयजल संकट से राहत देने के लिए केवल ककैटो व पेहसारी से पानी लिफ्ट कर तिघरा लाना ही विकल्प था। इसलिए शासन ने 9.26 करोड़ रुपए स्वीकृत किए। शासन ने अब तक केवल 5 करोड़ रुपए दिए हैं। ककैटो से 13 नवंबर से पानी की लिफ्टिंग शुरू हुई थी। 10 दिसंबर को तिघरा में पानी पहुंचना शुरू हो गया था।

दोनों बांधों से लिफ्ट करना था 2300 एमसीएफटी पानी –

ककैटो से 1400 तथा पेहसारी से 900 एमसीएफटी पानी लिफ्ट करने के लिए शासन ने 9.26 करोड़ रुपए स्वीकृत किए। दोनों बांधों से 2300 में से करीब 1200 एमसीएफटी पानी तिघरा में पहुंचने का अनुमान था। जल संसाधन विभाग ने दोनों बांधों से 2031 एमसीएफटी पानी लिफ्ट किया जिसमें से 1248 एमसीएफटी तिघरा में पहुंच गया। यानि 61 फीसदी पानी तिघरा में पहुंचा और शेष 39 फीसदी पानी लाइन लॉस में चला गया। ककैटो से नवंबर यानि सर्दियों में लिफ्टिंग शुरू हुई थी इसलिए फरवरी तक लाइन लॉस बहुत कम हुआ। पेहसारी से लिफ्टिंग में अधिक लॉस हुआ।

इनका कहना है –

पेहसारी बांध से रविवार को पानी लिफ्ट करना बंद कर दिया। ककैटो एवं पेहसारी में अब जलीय जीवों व पशुओं के लिए ही पानी छोड़ा गया है। दोनों बांधों से 1200 एमसीएफटी पानी तिघरा में पहुंचने का अनुमान था लेकिन इससे 48 एमसीएफटी ज्यादा पहुंच गया।

राजेश चतुर्वेदी, कार्यपालन यंत्री जल संसाधन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *